astrology
Logo
हिंदू धर्म के अनुसार पूजा में अक्षत यानी चावल का बहुत महत्व होता है। पूजा की विभिन्न सामग्रियों पैसे की तंगी को दूर करने के लिए पीले चावलों का यह उपाय इन्हीं में से एक है। ऐसा कहा जाता है कि चावल का उपयोग हर छोटी से लेकर बडी पूजा या हवन सामग्री में होता है। यही कारण है की ज्योतिषीय उपायों में भी चावल का बहुत महत्व है आइए जानते हैं चावल का एक ऐसा उपाय जो जो पैसों से जुडी हर तरह की दिक्कतों को खत्म कर सकता है। किसी भी शुभ दिन, जैसे शुक्रवार या किसी एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठें। नहाने के बाद मां महालक्ष... Read more...
Logo
सनातन धर्म में दान को बेहद महत्वपूर्ण माना गया है। यह मात्र रिवाज के लिए नहीं किया जाता, वरन् दान करने के पीछे विभिन्न धार्मिक उद्देश्य बताए गए हैं। दान एक त्याग है जो भविष्य की खुशियों का ताला खोलता है। दान करने से व्यक्ति के जाने अनजाने में किए गए पापो के परिणाम कम हो जाते है। दान करने से जीवन में सुख समृधि शांति बढती है। मनुष्य का किया हुआ दान कभी न कभी उसके दुर्भाग्य को सौभाग्य में बदल देता है।  दान करना एक बहुत अच्छी बात है पर कभी अपने किए हुए दान पर अहंकार ना करे। ना ही किसी भी समय अपने दान का ... Read more...
Logo
 हिन्दू धर्म पूजा पाठ में आरती का महत्व होता है। हम देवी देवताओ की आरती में धूप दीप और अगरबत्ती जलाते है। इससे रौशनी और सुगंध दोनों होते है। शायद इस बात की जानकारी बहुत कम लोगों को है कि पूजा-पाठ के दौरान धूप का प्रयोग करना तो उचित है, लेकिन अगरबत्ती का प्रयोग करना बहुत अशुभ होता है। दरअसल शास्त्रों में कहा गया है कि भगवान की पूजा में कभी भी अगरबत्ती नही जलानी चाहिए। आप सोच रहे होंगे कि आखिर ऐसा क्यों, तो आपको बताते है कि आखिर इसके पीछे क्या कारण है।  दरसअल, शास्त्रों में कहा गया है कि हम हिन्दू जब... Read more...
Logo
हिंदू धर्म में अक्षय तृतीया का बहुत महत्व है। अक्षय तृतीया का दिन मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्ति के लिए बहुत महत्व रखता है। इस दिन मां लक्ष्मीजी का पूजन करना शुभ फलदायी माना जाता है। इसके पीछे यह मान्यता है कि इससे साल भर आर्थिक स्थिति अच्छी बनी रहती है। अक्षय तृतीया के दिन बने विशेष शुभ संयोग में धन-वैभव की देवी लक्ष्मी पूजन से धन संबंधी समस्त परेशानियां आसानी से दूर हो जाती है। इस दिन कुछ विशेष पूजन से माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त हो सकती है। पौराणिक शास्त्रों के अनुसार अक्षय तृतीया यानी अखाती... Read more...
Logo
भारतीय संस्कृति में किसी पूजा-पाठ या किसी मांगलिक कार्य के दौरान माथे पर तिलक लगाते हुए आपने कई लोगों को देखा होगा। हिंदू धर्म में ऐसा माना जाता है कि बिना तिलक लगाए कोई भी पूजा संपन्न नहीं होती है। हिन्दू परंपराओं में सिर, मस्तक, गले, हृदय, दोनों बाजू, नाभि, पीठ, दोनों बगल आदि मिलाकर शरीर के कुल 12 स्थानों पर तिलक लगाने का विधान है। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि आखिर इस तिलक को क्यों लगाया जाता है, आखिर क्या हैं इसके लाभ। अगर नहीं तो चलिए हम आपको बताते हैं।  असल में माथे पर तिलक लगाने की प्रथा प्राचीन का... Read more...
Logo
आदमी के कर्म के साथ उसका भाग्य भी उसे बुलंदियों पर ले जाने के लिए अहम होता है। ज्योतिषयों का मानना है कि किसी भी इंसान के बारे में उसकी हाथ की रेखाएं देखकर बताया जा सकता है। समुद्रशास्त्र में लोगों के हाथ पर बनी रेखाओं से उनके भविष्य में होने वाली घटनाओं के बारे में पता लगाया जा सकता है। अमूमन हर किसी की हथेली पर मुख्य रूप से तीन रेखाएं नजर आती हैं। इसमें अगूठे की तरह से पहली जीवन रेखा, दूसरी मस्तिष्क रेखा और तीसरी ह्रदय रेखा कही जाती है।  जानकारों का कहना है कि हथेली में इन रेखाओं को जब दूसरी रेखा ... Read more...
Logo
वैशाख मास, सूर्य के मेष राशि में प्रवेश करने के दिन को वैशाखी पर्व के रूप में मनाया जाता है। इसे वैशाख संक्रांति भी कहते हैं। शनिवार सवेरे 8 बजकर 10 मिनट पर सूर्य ने मेष राशि में प्रवेश किया। (देश-क्षेत्र केहिसाब से समय भिन्न हो सकता है।) इस पर्व को फसल काटने के बाद नए साल की शुरुआत के तौर पर मनाया जाता है। नया साल इसलिए क्योंकि 12 राशियों में से पहली राशि मेष है।  वास्तव में वैसाखी एक कृषि पर्व है जब लहलहाते खेत रबी की फसल के रूप में तैयार हो जाते हैं तो प्रकृति की इस देन का और ईश्वर का धन्यवाद करने के ल... Read more...
Logo
वाहन (कार, स्कूटर, बाइक, बस, टैम्पो इत्यादि) का रजिस्ट्रेशन नंबर तथा रंग आपके लिए शुभ रहे यह अंक ज्योतिष से मूलांक के आधार पर जान सकते हैं। अंक ज्योतिष में मूलांक जन्म तारीख को कहते हैं। जैसे 19 तारीख को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 1 प्लस 9=10 अर्थात एक होगा। वाहन अंक जानने के लिए वाहन के रजिस्ट्रेशन नम्बरों को जोडकर इकाई में परिवर्तित करते हैं जैसे वाहन संख्या 5674 (5 प्लस 6 प्लस 7 प्लस 4 =22=2 प्लस 2 = 4) नम्बर का अंक 4 बनेगा। मूलांक स्वामी के आधार पर शुभ वाहन अंक एवं रंग का निर्धारण इस प्रकार करें। मूलांक 1 - जिनका जन्म कि... Read more...
Logo
इस साल अक्षय तृतीया की शुभ तिथि 18 अप्रैल को है। हिंदू धर्म में इस तिथि को बहुत शुभ मानते है। इस दिन लोग बिना आचार्य और पुरोहित से पूछे कोई भी मांगलिक कार्यक्रम करते हैं। इस दिन लोग नये गहने खरीदते हैं। आइए आपको बताते हैं इस अक्षय तृतीया पर मां लक्ष्मी को कैसे खुश करें। -सोने या चांदी के मां लक्ष्मी के चरण पादुका घर लेकर आएं। इतना ही नहीं इसकी रोजाना पूजा करने से आप पर जमकर मां लक्ष्मी की कृपा बरसेगी,वहीं मां लक्ष्मी को खुश करने के लिए अक्षय तृतीया के दिन 11 कौड़ियों को लाल कपड़े में बांधकर पूजा स्थल म... Read more...
Logo
हिन्दू धर्म का इतिहास अति प्राचीन है। इस धर्म को वेदकाल से भी पूर्व का माना जाता है, क्योंकि वैदिक काल और वेदों की रचना का काल अलग-अलग माना जाता है। यहां शताब्दियों से मौखिक परंपरा चलती रही, जिसके द्वारा इसका इतिहास व ग्रन्थ आगे बढते रहे। हिंदू धर्म में देवी-देवताओं को रिती-रिवाजों से पूजन किया जाता है। हम ऐसा भी देखते है कि मंदिर या घर में कोई भी मूर्ति खंडित होने के बाद उसकी पूजा नहीं होती है। आइए जानते है आखिर क्यों किसी मूर्ति के खंडित होने के बाद उसे बहते जल में विसर्जित या वटवृक्ष के नीचे रख द... Read more...
Logo
हिन्दू सनातन धर्म के आधार पर कछुआ के रूप में भगवान विष्णु ने कच्छप अवतार लिया था जिसे कूर्म अवतार के नाम से भी जाना जाता है। भारत के पुराणों में भी कछुए का काफी जिक्र होता आया है। भगवान विष्णु का एक रूप कछुआ भी है। समुद्र मंथन के समय भगवान विष्णु ने कछुए का रूप धारण किया था। धार्मिक रूप में कछुआ सौभाग्यशाली माना जाता है। इसलिए कछुए की पूजा भी होती है। वास्तु शास्त्र में कछुए के कई गुण गिनाए गए हैं। जो आपको हर तरह से फायदा दे सकता है। कछुऐ का चित्र या कछुआ रखने से आपकी कई सारी परेशानियां ठीक हो जाती ह... Read more...
Logo
प्राचीन काल से ही हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे का बहुत महत्व दिया गया है। तुलसी का पौधा हर घर में मिल जाएगा। ऐसा भी माना जाता है कि घर-आंगन में तुलसी का पौधा होने से कई प्रकार के वास्तु दोष समाप्त होते हैं और परिवार की आर्थिक स्थिति पर शुभ असर होता है। अधिकांश हिंदू परिवारों में तुलसी का पौधा लगाने की परंपरा है और हो भी क्यों न क्योंकि तुलसी को देवी का रूप माना जाता है इसके साथ साथ तुलसी का धार्मिक महत्व भी है। विज्ञान के दृष्टिकोण से भी तुलसी एक औषधि है। आयुर्वेद में तुलसी को संजीवनी बुटि के समान म... Read more...
Logo
 धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सूर्य को देवों की श्रेणी में रखा गया है। उन्हें भक्तों को प्रत्यक्ष दर्शन देने वाला भी कहा जाता है। वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी सूर्य का विशेष महत्व है। ज्योतिष शास्त्रों में कहा गया है कि हमें हर रोज प्रातकाल: सूर्य को जल चढाना चाहिए। हम सभी यह करते हैं। क्या हैं सूर्य को जल चढाने की वैज्ञानिक मान्यता, क्यों चढाते हैं सूर्य को जल, आखिर सूर्य को जल चढाने के क्या फायदे होते है, वो बताते है।  सूर्य को ऐसे चढाए जल... भारतीय परंपरा के अनुसार सूर्य देव को प्रात:काल नहाने के ... Read more...
Logo
धार्मिक ग्रंथों और पुराणों के अनुसार किसी भी तरह का आभूषण खोना दुर्भाग्य लाता है। इसके एक नहीं कई प्रमाण हैं। आइए जानें किस आभूषण के खोने से क्या नुकसान होने की आशंका हो सकती है।  शास्त्रों में कहा गया है कि नाक का आभूषण खो जाने का अर्थ है भविष्य में बदनामी अथवा अपमान होगा। अगर सिर का कोई गहना खो जाए तो आने वाले समय में टेंशन-परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।  कानों में डालने वाला कोई गहना गुम हो जाए तो किसी बुरे और दुखद समाचार प्राप्त होता है। गले का हार गुम हो जाए तो वैभव में कमी आती है। बाजू ब... Read more...
Logo
अक्सर हम देखते है शरीर पर कई प्रकार के जन्मजात अथवा जीवन काल के दौरान निकले निशान पाए जाते हैं। जिन्हे हम तिल, मस्सा एवं लाल मस्सा के नाम से सुनते आए हैं। ज्योतिष के मुताबिक, शरीर के मौजूद काले तिल हमारा भविष्य और स्वभाव बताते हैं। वहीं तिल को अक्सर महिलाओं के सौंदर्य और किस्मत से जोड कर देखा जाता है। कहा जाता है कि जहां लाल, हरे और शहद के रंग वाले तिल लकी होने का संकेत देते हैं, वहीं काले रंग के तिल दुर्भाग्य के लिए माने जाते हैं। लगभग हर पुरूष व स्त्री के किसी न किसी अंग पर तिल अवश्य पाया जाता है। आज ... Read more...
Logo
ज्योतिषशास्त्र में नौ ग्रह बताए गए है। और हर ग्रह का विशेष महत्व होता है। ग्रहों की चाल से ही व्यक्ति के अच्छे और बुरे दिन आते-जाते हैं। व्यक्ति अपने ग्रहों के दोषों को दूर करने के लिए कई धातु की अंगुठियां पहनते हैं। सभी ग्रहों की अलग-अलग धातु होती है। सभी ग्रहों का राजा सूर्य होते हैं जिनकी मनपसंद धातु तांबा होता है। सूर्य ग्रह से संबंधित दोष को दूर करने के लिए लोग तांबे की अंगूठी पहनते हैं। वैसे तो हिन्दू धर्म में सोना, चांदी और तांबा, ये तीनों धातुएं पवित्र मानी गई हैं। इसीलिए पूजा-पाठ में इन धा... Read more...
Logo
नई दिल्ली (एजेंसी) >>>>>>> देशभर में आज हनुमान जयंती बड़ी ही धूमधाम से मनाई जा रही है। सुबह से ही हनुमान मंदिरों में भक्तों का तांता लगा हुआ है। खास बात ये है कि इस बार हनुमान जयंती पर बड़ा ही शुभ संयोग बना हुआ है जो शनि और मंगल के दोषों को दूर करने के लिए उत्तम है।  दरअसल मंगल ग्रह जिसके देवता हनुमान जी है और शनि ग्रह जिनके स्वामी शनि महाराज हैं दोनों ग्रह एक साथ एक ही राशि धनु में विराजमान हैं। ऐसे में हनुमान जयंती के अवसर पर इस साल हनुमान जी की पूजा से दोनों पाप ग्रहों के दोष को एक साथ दूर किया ज... Read more...
Logo
श्रीराम भक्त बजरंगबली चमत्कारिक सफलता देने वाले देवता माने गए हैं। मंगलवार अथवा शनिवार के दिन उनका यह टोटका विशेष रूप से धन प्राप्ति के लिए किया जाता है। साथ ही यह टोटका हर प्रकार का अनिष्ट भी दूर करता है। हनुमानजी को प्रसन्न करने के लिए रोजाना हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। इसके अलावा मंगलवार और शनिवार को सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए। श्रीराम नाम का जप करना और चमेली के तेल का दीपक लगाने से भी प्रभु हनुमान प्रसन्न होते हैं। शनिवार के दिन एक नींबू और 4 लौंग लेकर हनुमान मंदिर जाएं। उस नींबू के ऊ... Read more...
Logo
गाय हिन्दू धर्म में पूजनीय के साथ साथ हमारे लिए बहुत लाभकारी भी है। इसलिए सिर्फ सनातन धर्म में नहीं अपितु हर वर्ग यहां तक की वैज्ञानिक भी इसे लाभकारी मानते हैं। हिन्दू धर्म के अनुसार गाय में 33 कोटि के देवी-देवता निवास करते हैं। कोटि का अर्थ करोड नहीं, प्रकार होता है। इसका मतलब गाय में 33 प्रकार के देवता निवास करते हैं। वौदिक ग्रंथों में गाय की उपयोगिता पर विस्तार से चर्चा की गई है। गौमूत्र से मिलने वाले फायदे क्या हैं वो आपको बताते है।  वैज्ञानिक तौर पर भी सिद्ध किया जा चुका है की गाय का मूत्र कीट... Read more...
Logo
पैसों से जुडी समस्याओं को दूर करने के लिए शास्त्रों के अनुसार कई कार्य और नियम बताए गए हैं। इन नियमों का पालन करने पर व्यक्ति के जीवन में कभी भी धन की कमी नहीं रहती है।    1. पर्स में किसी भी प्रकार के बिल या भुगतान से संबंधित कागज नहीं रखने चाहिए।  2. कुछ लोग पर्स में ही चाबियां भी रखते है, चाबियां रखना भी अशुभ ही माना जाता है। इन्हें भी रुपए-पैसों से अलग ही रखना चाहिए।   3. पर्स में कभी भी कोई अश्लील चित्र या अन्य अश्लील सामग्री भी नहीं रखना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से पर्स की बरकत खत्म हो जाती है औ... Read more...
Logo
दूध को चंद्रमा और शांति का प्रतीक माना गया है। प्राचीन तांत्रिक ग्रंथों में बताए गए दूध के ऐसे ही टोने-टोटकों के बारे में जिन्हें करते ही असर दिखता है और आपकी समस्या तुंरत दूर होने लगती हैं। नजर दूर करने तथा अमीर बनने के लिए रविवार की रात सोते समय 1 गिलास में दूध भरकर अपने सिर के पास रखकर सो जाएं। ध्यान रखें, यह दूध फैलना नहीं चाहिए। अगले दिन सुबह उठने के बाद नित्य कर्मों से निवृत्त होकर इस दूध को किसी बबूल के पेड की जड़ में डाल दें। ऐसा हर रविवार रात करें। जिस आदमी पर इस उपाय को करेंगे, उसकी नजर दूर ह... Read more...
Logo
हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार जब भी हम कोई शुभ कार्य करते हैं तो सबसे पहले उस जगह को पवित्र करने के लिए गाय के गोबर से लीपा जाता है। क्योंकि ऎसा माना जाता है कि गाय में 33 करोड देवताओं का वास होता है और देवताओं की पूजा करने से पहले उस जगह को शुद्ध किया जाना आवश्यक होता है। दरअसल, शास्त्रों के अनुसार गाय के मुख वाले भाग को अशुद्ध और पीछे वाले भाग को शुद्ध माना जाता है। गोबर में लक्ष्मी का निवास माना गया है। इसलिए जब भी कोई पूजन या हवन जैसा कोई धार्मिक कार्य किया जाता है तो उस जगह को गाय के गोबर से लीपा जात... Read more...
Logo
आप और हम अक्सर देखते है कि हर किसी के घर में एक मंदिर होता है जहां देवी-देवताओं की मूर्तियां और तस्वीर होती है। बहुत से लोग अपनी मर्जी के अनुसार मंदिर और मूर्तियां लगा देते है। लेकिन क्या आप जानते है कि मंदिर भी वास्तु के अनुसार होना चाहिए, अगर ऐसा नहीं हुआ तो आपके घर में अशांति और दोष हो सकता है।  वेदों के जानकार बताते है कि वास्तु के अनुसार, देवी देवताओं की मूर्तियां घर में किस रूप में है और कहां पर स्थापित है, यह बात घर की सुख-समृद्धि और धन आदि पर बहुत असर डालती है। इसलएि जब भी घर में देवी-देवताओं क... Read more...
Logo
ज्योतिष विषय वेदों से भी प्राचीन है। ज्योतिष में जितनी भी बाते कहीं गई है लगभग सभी पूरी हुई है। प्राचीन काल में ग्रह, नक्षत्र और अन्य खगोलीय पिण्डों का अध्ययन करने के विषय को ही ज्योतिष कहा गया था। इसके गणित भाग के बारे में तो बहुत स्पष्टता से कहा जा सकता है कि इसके बारे में वेदों में स्पष्ट गणनाएं दी हुई हैं। फलित भाग के बारे में बहुत बाद में जानकारी मिलती है। भारतीय आचार्यों द्वारा रचित ज्योतिष की पाण्डुलिपियों की संख्या एक लाख से भी अधिक है। ज्योतिष में अगर अलग-अलग दिनों की बात की जाए तो इसके ब... Read more...
Logo
 शास्त्रों और पुराणों के अनुसार शारदीय नवरात्र अधिक महत्वपूर्ण है। प्राचीन काल में नवसंवत्सर से आरंभ होने वाला नवरात्र ही अधिक प्रचलित था। नवरात्र का अर्थ है नौ रातें। इन नौ रातों और दस दिनों के दौरान, देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि के नौ रातों में तीन देवियों महालक्ष्मी, महासरस्वती तथा महाकाली सहित दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा होती हैं जिन्हें नवदुर्गा भी कहते हैं। नवरात्रों में लोग अपनी आध्यात्मिक और मानसिक शक्तियों में वृद्धि करने के लिए अनेक प्रकार के उपवास, संयम, भजन, प... Read more...
Logo
यूं तो साल में चार बार नवरात्र आते हैं लेकिन चैत्र नवरात्र अधिक महत्वपूर्ण माने जाते हैं। पुराणों के अनुसार इन नवरात्रों के दौरान अगर आपको कुछ खास संकेत मिलने लगें तो समझ लों कि मां लक्ष्मी के साथ समस्त ब्रहामाण्ड की शक्तियां आप पर मेहरबान हैं।  भारतीय संस्कृति में सोलह श्रृंगार को शुभता का संकेत माना गया है। जिस घर की महिलाएं सोलह श्रृंगार करती हैं, वहां सुख और समृद्धि अपना बसेरा बना कर वास करती है। नवरात्र में यदि किसी ऐसी महिला के दर्शन हो जाएं जो पूरे सोलह श्रृंगार किए हो तो उस दिन आपको हर... Read more...
Logo
ज्योतिष के उपायों में तरह-तरह की चीजों का इस्तेमाल किया जाता है। जीवनमंत्र पर कई चीजों के उपाय बताए गए हैं। यहां आज जानिए काली मिर्च के किस उपाय से धन की कमी दूर हो सकती है। यदि आप मालामाल होना चाहते हैं तो काली मिर्च के 5 दानों का यह उपाय करें। उपाय के अनुसार काली मिर्च के 5 दाने लें और उन्हें अपने सिर पर से 7 बार वार लें। इसके बाद किसी चौराहे पर खड़े होकर या किसी सुनसान स्थान पर चारों दिशाओं में 4 दाने फेंक दें।  इसके बाद 5वें दाने को ऊपर आसमान की ओर फेंक दें। यह एक टोटका है और इसके लिए ऐसा माना जाता है ... Read more...
Logo
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा, 18 मार्च से हिंदू नवसंवत्सर शुरू होगा। चैत्र नवरात्र पर घटस्थापना भी इस दिन की जाएगी। इस बार भी नवरात्र 8 दिन के होंगे।नवमी तिथि के क्षय होने की वजह से ऐसा होगा। अष्टमी व नवमी तिथि एक ही दिन 25 मार्च को है। इसी दिन कन्या पूजन के साथ नवरात्रा पूजा अनुष्ठान किए जाएंगे।  नारद पुराण के अनुसार हवन व कन्या पूजा के बिना नवरात्रा की पूजा अधूरी मानी जाती है। पिछले चार साल से नवरात्रा का पर्व आठ दिन में ही संपन्न हो रहा है। नवरात्रा में सिर्फ खाने का उपवास ही नहीं, बल्कि इंद्रियों पर भी ... Read more...
Logo
वास्तु क्या है, क्यों है, लोग क्यों इसे इतना महत्व देते है, ये बाते तो आप सभी जानते होंगे। लेकिन आज हम आपको वास्तु शास्त्र से जुड़े उन तथ्यों के बारे में बताने जा रहे है, जिन्हे जानकर आप चौंक जाएंगे। ये जानकर आप चौंक जाएंगे कि आधी से ज्यादा जनता इन गलतियों को रोजाना दोहराती है, जिससे उनके घर में आए दिन दिक्कतें आती रहती है। सूर्यास्त के बाद कभी भी दूध, दही और प्याज नहीं देना चाहिए, ऐसा करने से आपका भाग्य रूठ जाता है , फिर चाहे वो बाहर का कुत्ता ही क्यों न हो।  आम तौर पर लोग ख़ुशी के मौके पर मिठाइयां बांटत... Read more...
Logo
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार स्फटिक को धन की देवी लक्ष्मी जी का स्वरुप माना गया है, जिसे कंठ हार अर्थात माला के रूप में धारण किया जाता है। स्फटिक निर्मल,रंगहीन, पारदर्शी और शीत प्रभाव रखने वाला उप-रत्न है। आयुर्वेद में स्फटिक का प्रयोग सभी प्रकार के ज्वर, पित्त प्रकोप, शारीरिक दुर्बलता एवं रक्त विकारों को दूर करने के लिए शहद अथवा गौ मूत्र के साथ औषधि के रूप में किया जाता है।  ज्योतिष की दृष्टि से स्फटिक को पूर्ण विधि-विधान और श्रद्धाभाव के साथ कंठ हार के रूप में धारण करते रहने से समस्त कार्यों मे... Read more...
Logo
ज्योतिषाचार्यों के अनुसार वृद्धि नामक योग में कर्ज लेने से बचें क्योंकि नियमानुसार इस योग का कर्ज कभी समाप्त नहीं होता। बुजुर्गों और किवदंतियों के अनुसार ऋण कभी भी मंगलवार को न लें। प्रयास करें कि जो भी कर्ज है उसकी प्रथम किश्त प्रथम मंगलवार से ही वापिस करना आरंभ करे।  हस्त नक्षत्र में भी कर्ज लेने से बचें। स्थिर लग्न में भी कर्ज न लेना अच्छा होता है। किसी भी संक्रांति यानी सूर्य जब एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करे, उस स्थिति में कर्ज लेने से बचें। अमृत सिद्धि, द्विपुष्कर या त्रिपुष्कर य... Read more...
Logo
इलायची जिसे खाने से उलटी नहीं आती, अगर इसे चाय में डाल दिया जाए तो चाय का स्वाद अच्छा हो जाता है। ये बातें तो सभी जानते है,लेकिन आज बताने जा रहे हैं कि इलायची कैसे आपकी किस्मत चमका सकती है। अगर आपको धन की प्राप्ति नहीं हो रही है तो अपने पर्स में 5 इलायची रख लीजिए, ऐसा करने से आपकी धन से जुडी समस्याएं खत्म हो जाएंगी। अगर आपको अपने जीवन साथी के रूप में सुन्दर बीवी चाहिए तो, पीले वस्त्र में 5 इलायची डालकर किसी गरीब को दान कर दीजिए।  लाख मेहनत करने के बाद भी आपको प्रमोशन न मिल रहा हो तो, हरे कपडे में एक इलाय... Read more...
Logo
 हाथ-मुंह पौछने वाला रूमाल आपकी सेहत तो संवारता ही है आपकी किस्मत भी चमका सकता है। यकीन ना आए तो एक बार इस्तेमाल करके देख लें।  रूमाल को रखने के भी अपने कायदे हैं। अंक ज्योतिष भी इस बात को मानता है कि जेब में रूमाल रखने से आपके जीवन में सकारात्मकता या बड़ी सफलता का इंतज़ार कर रहे हैं वे जब भी रूमाल रखें उसके चार या छह फोल्ड करके अपनी जेब में डालें।  वास्तु के अनुसार अपने रूमाल पर कभी भी पेन या पेंसिल से नहीं लिखना चाहिए। ऐसा करने से आपकी एकाग्रता में कमी आ सकती है। ध्‍यान रखें कि भूलकर के भी किसी औ... Read more...
Logo
चैत्र नवरात्र 18 मार्च से शुरू हो रहे हैं। इस वर्ष नवरात्र का प्रारंभ सर्वार्थ सिद्धि योग से हो रहा है। इस दिन घरों और मंदिरों में घट स्थापना की जाएगी। इस बार भी नवरात्र 8 दिन के होंगे। क्योंकि नवमी तिथि का क्षय हो रहा है। यह चौथी बार है जब चैत्र नवरात्र लगातार 8 दिन के आ रहे हैं। इस बार माता हाथी पर सवार होकर आएगी जो शुभ और मंगलदायी मानी गई है।  धार्मिक परंपरा अनुसार नवरात्रा में माता दुर्गा के विभिन्न स्वरूपों का पूजन एवं अर्चना की जाती है। घट स्थापना के साथ ही नवरात्रा आरंभ हो जाते हैं और साधकों ... Read more...
Logo
आपका मंगल शुभ है या नहीं ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि किसी जातक का मंगल शांत हो तो वह पुलिस, सेना व प्रशासनिक सेवाओं को भोगता है लेकिन मंगल अशुभ हुआ तो वह जातक को गलत व अपराध कार्यों की ओर ले जाता है। रजोगणी प्रधान और रक्त वर्ण वाले मंगल ग्रह के शुभ स्थिति में होने पर जातक योग्य, साहसी, कुशल और सामथ्र्यवान हो जाता है। लग्न का स्वामी मंगल यदि शक्तिशाली हो तो जातक में उत्साह व आत्मविश्वास देखने को मिलता है। ऐसे जातक अपनी क्षमता से अधिक साहस पूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर डालते हैं। यदि लग्न में मंगल अस... Read more...
Logo
धार्मिक ग्रंथों के अनुसार हर काम का अपना एक समय निर्धारित होता है। कई ऐसे काम हैं जिन्हें दिन के वक्त नहीं करना चाहिए, वहीं कई ऐसे काम भी हैं जिन्हें रात वक्त बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। ऐसा नहीं करते हैं तो फिर कोई अनहोनी आपके साथ हो सकती है।  रात के वक्त किसी औरत को पराए मर्द से और मर्द को किसी पराई स्त्री से अकेले में नहीं मिलना चाहिए। इसके अलावा बुरी संगत में रहने वाले लोगों के साथ भी रात में नहीं मिलना चाहिए। इन दोनों हालात में आपकी बदनामी हो सकती है इतना ही नहीं आपके साथ किसी भी तरह की अनहोनी ... Read more...
Logo
भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक होली जिसे आम तौर पर लोग ‘रंगो का त्योहार’ भी कहते हैं हिंदू पंचांग के मुताबिक फाल्गुन माह में पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। देश के दूसरे त्योहारों की तरह होली को भी बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता है। ढोल की धुन और घरों के लाउड स्पीकरों पर बजते तेज संगीत के साथ एक दूसरे पर रंग और पानी फेंकने का मजा देखते ही बनता है। होली के साथ कई प्राचीन पौराणिक कथाएं भी जुड़ी हैं और हर कथा अपने आप में विशेष है।  यह रंगो का त्योहार कब से शुरू हुआ इसका जिक्र भारत की ... Read more...
Logo
 फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि को होली का पर्व मनाया जाता है। शास्त्रों की मानें तो पूर्णिमा के दिन ही होलिका दहन किया जाता है। इसके अगले दिन रंगों से खेलने की परंपरा है जिसे रंगवाली होली, धुलेंडी, धुलंडी और धूलि आदि नामों से भी जाना जाता है। आपको बता दें कि इस बार एक मार्च को सुबह 8 बजे से पूर्णिमा तिथि लग रही है। लेकिन पूर्णिमा के साथ भ्रद्रा भी लग रहे हैं। ऐसी मान्यता है कि भद्रा में होलिका दहन नहीं किया जाता है। इसलिए भद्रा समाप्त होने के बाद होलिका दहन किया जाएगा। इसके अलावा होलिका दहन के लिए प... Read more...
Logo
होली यूं तो रंगों का त्योहार है लेकिन शास्त्रों के अनुसार इस दिन खास राशि वाले खास चीजें दान करें तो आप चंद ही दिनों में आप मालामाल हो सकते हैं-  यदि आपकी मिथुन या कन्या राशि है या बुध की दशा- अन्तर दशा चल रही हो, बुध बलहीन हो या पाप ग्रहों से युत दृष्ट हो, तो आपको हरा वस्त्र, मूंग, पन्ना, कपूर, शास्त्र, पालक, धृत, हरि धास, सर्व पुष्प का दान करना लाभप्रद रहेगा। यदि आपकी कर्क राशि है या चन्द्र की दशा- अन्तर दशा चल रही हो, चन्द्र बलहीन हो या पाप ग्रहों से युत दृष्ट हो, तो आपको आप दूध, चावल, कपूर, सफेद वस्त्र, चां... Read more...
Logo
शकुन शास्त्र में होलिका दहन के समय वायु प्रवाह की दिशा से जन जीवन पर पडने वाले प्रभावों का फलित निर्णय किया जाता है तथा आगामी वर्ष कैसा रहेगा, इसका निष्कर्ष भी निकाला जाता है।  इस साल 1 मार्च को सुबह 8 बजकर 58 मिनट से पूर्णिमा तिथि लग रही है। इसलिए शाम 7.30 मिनट तक भद्रा के खत्म होने पर होलिका दहन किया जा सकेगा। होलिका दहन के लिए घर में और बाहर होलिका की पूजा की जाती है। पूजा में चावल, फूल, साबूत मूंग, साबूत हल्दी, नारियल और गोबर की गुलरियां शामिल की जाती हैं। पूजन की सभी सामग्रियां अर्पित करने के बाद होल... Read more...
Logo
होली के अवसर पर गुरुवार को दिनभर भद्रा रहेगी। इसके बाद ही होलिका दहन किया जा सकेगा, क्योंक भद्रा काल के बाद ही होली का दहन करना श्रेष्ठ माना गया है। मालवीय नगर निवासी ज्योतिषाचार्य पं. विवेक शास्त्री ने बताया कि होली के दिन गुरुवार को सुबह 8:58 बजे से शाम 7:40 बजे तक भद्रा रहेगी। इस कारण शाम 7:41 बजे से 7:58 बजे तक होलिका दहन का श्रेष्ठ मुहूर्त है। शुक्रवार को धुलेंडी मनाई जाएगी। शास्त्री ने बताया कि होली इस बार संयोगवश पूर्णिमा गुरुवार को है। इस तिथि-वार का संयोग कभी कभार बनता है। ऐसे संयोग के मौके पर होलि... Read more...
Logo
बच्चों को बुरी नजर से बचाने और उन्‍हें स्‍वस्‍थ्‍ा रखने के लिए के लिए खास उपाय बताए गए हैं। इन्‍हें आजमाया जा सकता है। रात को सोते समय बच्चे के सिरहाने उसकी दाहिनी तरफ पानी का एक लोटा या गिलास रखना चाहिये,जिससे रात को सोते समय कुविचार उसके सुषुप्त मस्तिक पर असर नही दे पायें।  बच्चे के जगने पर उसके पास जरूर उपस्थित रहें, जितना बच्चा जगने के बाद आपको देखेगा। उतना ही वह दिन भर आपकी तस्वीर को वह अपने दिमाग में रखेगा। अधिक समय तक आपको अपने सामने पाने पर वह कभी आपको अलग नही कर पाएगा और गलती करने पर ... Read more...
Logo
होली का दिन तांत्रिक क्रियाओं के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। इस दिन अभिमंत्रित और आमंत्रित कर जडी-बूटी घर लाई जाती है। कई प्रकार के मंत्रों की सिद्धियां भी की जाती हैं। होली की पूजा मुख्यत: भगवान विष्णु (नरसिंह अवतार) को ध्यान में रखकर की जाती है। घर के प्रत्येक सदस्य को होलिका दहन में देशी घी में भिगोई हुई दो लौंग, एक बताशा और एक पान का पत्ता अवश्य चढाना चाहिए। होली की ग्यारह परिक्रमा करते हुए होली में सूखे नारियल की आहुति देनी चाहिए। इससे सुख-समृद्धि बढ़ती है, कष्ट दूर होते हैं। होली पर पूरे दिन... Read more...
Logo
मां लक्ष्मी हमेशा उन्हीं का साथ देती हैं जो उन्हें पसंद आते हैं। गरुड़ पुराण के अनुसार कुछ खास काम करने वाले लोगों को मां बिल्कुल पसंद नहीं करती और वहां कभी निवास भी नहीं करतीं। आइए जानें कौन से हैं वे लोग और कौनसे हैं वे काम- गरूड पुराण के अनुसार मैले वस्त्र यानी गंदे कपड़े पहनने वालों को देवी लक्ष्मी त्याग देती हैं। कहने का तात्पर्य है कि यदि आप साफ-स्वच्छ रहेंगे तो लोग आपसे मिलने-जुलने में संकोच नहीं करेंगे।  यदि आप कोई व्यापार करते हैं तो जान-पहचान बढ़ने से आपके व्यापार में भी इजाफा होगा। अ... Read more...
Logo
होलाष्टक 23 फरवरी से शुरू हो गए हैं। होलाष्टक अगले 7 दिनों तक यानी 1 मार्च तक होलिका दहन तक रहेंगे। इस बार होलाष्टक 7 दिनों के हैं। आमतौर पर 8 दिनों के रहते हैं। इस बार चतुर्दशी व पूर्णिमा एक ही दिन होने से होलाष्टक सात दिनों के हैं। होलाष्टक के 7 दिनों में कोई शुभ कार्य नहीं हो सकेंगे। होलिका दहन के साथ ही होलाष्टक समाप्त हो जाएगा। सभी शुभ व मांगलिक कार्यों के लिए ग्रहों का सौम्य होना जरूरी है। शास्त्रों में वर्णित है कि होलाष्टक के दौरान ग्रहों का स्वभाव उग्र हो जाता है। सभी 9 ग्रह फाल्गुन शुक्ल अष्ट... Read more...
Logo
सनातन धर्म में गाय को माता के समान सम्मानजनक स्थान प्राप्त है। हिंदू धर्म में गाय हमेशा कल्याणकारिणी तथा पुरुषार्थ-चतुष्टय की सिद्धि प्रदान करने वाली है। हमारे लिए गौमाता कितनी लाभदायक है आइए जानें जरा- जन्म पत्री में यदि शुक्र अपनी नीच राशि कन्या पर हो, शुक्र की दशा चल रही हो या शुक्र अशुभ भाव (6,8,12) में स्थित हो तो अपने प्रात: काल के भोजन में से एक रोटी सफेद रंग की गाय को 43 दिन तक लगातार खिलाने से शुक्र का नीचत्व और शुक्र सम्बंधित कुदोष स्वत: ही समाप्त हो जाते हैं। हमेशा भी देना शुभ है। सूर्य, चंद्र, ... Read more...
Logo
शास्त्रों के अनुसार पैर के अंगूठे के द्वारा भी शक्ति का संचार होता है। मनुष्य के पांव के अंगूठे में विद्युत संप्रेक्षणीय शक्ति होती है। यही कारण है कि अपने वृद्धजनों के नम्रतापूर्वक चरणस्पर्श करने से जो आशीर्वाद मिलता है, उससे व्यक्ति की उन्नति के रास्ते खुलते जाते हैं। चरण स्पर्श और चरण वंदना भारतीय संस्कृति में सभ्यता और सदाचार का प्रतीक माना जाता है।  आत्मसमर्पण का यह भाव व्यक्ति आस्था और श्रद्धा से प्रकट करता है। यदि वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो चरण स्पर्श की यह क्रिया व्यक्ति ... Read more...
Logo
रामायण, महाभारत, गरुड़ पुराण आदि ग्रंथों में कई ऐसे काम बताए गए हैं जो पूरी तरह वर्जित माने गए हैं। इन्हें करने से न केवल हमारे सम्मान में कमी आती है बल्कि हमें अपयश भी मिलता है। यदि कोई व्यक्ति संतान के पालन-पोषण में अनदेखी करता है तो संतान बिगड़ जाती है। संतान संस्कारी नहीं है और गलत काम करती है तो इससे अपमान ही प्राप्त होता है। जब घर के बड़ों की अनदेखी होती है तो संतान असंस्कारी हो सकती है। अत: माता-पिता को संतान के अच्छे भविष्य के लिए उचित देखभाल करनी चाहिए। संतान को अच्छे संस्कार मिले इस बात का ... Read more...
Logo
फागुन का महीना चल रहा है। फागुन माह में होली से पहले होलाष्टक लगते हैं। इस बार होलाष्टक 7 दिनों के हैं। आमतौर पर 8 दिनों के रहते हैं। होलाष्टक के 7 दिनों में कोई शुभ कार्य नहीं हो सकेंगे। होलिका दहन के साथ ही होलाष्टक समाप्त हो जाएगा। शास्त्रों में वर्णित कथनों के अनुसार होलाष्टक के दौरान ग्रहों का स्वभाव उग्र रहता है। सभी 9 ग्रह फाल्गुन शुक्ल अष्टमी ( 23 फरवरी) से पूर्णिमा (1 मार्च) तक उग्र रहेंगे। शुभ कार्य इसलिए नहीं हो सकेंगे, क्योंकि सभी शुभ व मांगलिक कार्यों के लिए ग्रहों का सौम्य होना जरूरी है।&nb... Read more...
Logo
फागुन का महीना चल रहा है। फागुन माह में होली से पहले होलाष्टक लगते हैं। इस बार होलाष्टक 7 दिनों के हैं। आमतौर पर 8 दिनों के रहते हैं। होलाष्टक के 7 दिनों में कोई शुभ कार्य नहीं हो सकेंगे। होलिका दहन के साथ ही होलाष्टक समाप्त हो जाएगा। शास्त्रों में वर्णित कथनों के अनुसार होलाष्टक के दौरान ग्रहों का स्वभाव उग्र रहता है। सभी 9 ग्रह फाल्गुन शुक्ल अष्टमी ( 23 फरवरी) से पूर्णिमा (1 मार्च) तक उग्र रहेंगे। शुभ कार्य इसलिए नहीं हो सकेंगे, क्योंकि सभी शुभ व मांगलिक कार्यों के लिए ग्रहों का सौम्य होना जरूरी है।&nb... Read more...
Logo
वास्तु में सीढिय़ों का विशेष महत्व है, भवन के दक्षिण-पश्चिम यानि कि नैऋत्य कोण में सीढ़ियां बनाना वास्तु की दृष्टि में बहुत शुभ माना जाता है। सीढ़ियां बनाते वक्त किसी भी इमारत या भवन में यदि वास्तुशास्त्र के नियमों का पालन किया जाए तो उस स्थान पर रहने वाले सदस्यों के लिए यह कामयाबी एवं सफलता की सीढ़ियां बन सकती है।  भवन के दक्षिण-पश्चिम यानि कि नैऋत्य कोण में सीढ़ियां बनाने से इस दिशा का भार बढ़ जाता है जो वास्तु की दृष्टि में बहुत शुभ माना जाता है। इसलिए इस दिशा में सीढ़िय़ों का निर्माण सर्वश... Read more...
Logo
यदि घर में किसी बच्चे या बड़े व्यक्ति को बुरी नजर लग जाए तो उसके सिर से पैर तक सात बार नींबू वार लें। इसके बाद इस नींबू के चार टुकड़े करके किसी सुनसान स्थान या किसी तिराहे पर फेंक दें। इसके अलावा नींबू के ढेरों ऐसे टोटके हैं, जिनको करने से जीवन के सभी कष्‍ट और दुख कुछ ही दिनों में गायब हो जाएंगे।   यदि किसी व्यक्ति का व्यापार ठीक से नहीं चल रहा है तो उसे शनिवार के दिन नींबू का तांत्रिक उपाय करना चाहिए। इस उपाय के अनुसार एक नींबू को दुकान की चारों दीवारों से स्पर्श कराएं। इसके बाद नींबू को चार टुक... Read more...
Logo
शास्त्रों में रुद्राक्ष को भगवान शिव का आंसू बताया गया है। धरती पर इसे सबसे पवित्र धातु भी बताया गया है। रुद्राक्ष एकमुखी से लेकर चौदह मुखी तक होते हैं| पुराणों में प्रत्येक रुद्राक्ष का अलग-अलग महत्व और उपयोगिता उल्लेख किया गया है। कुछ खास रुद्राक्ष को धारण करने से सभी ग्रह अनुकूल होने लगते हैं और आपके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आने लगते हैं।  एकमुखी रुद्राक्ष एकमुखी रुद्राक्ष साक्षात रुद्र स्वरूप है। इसे परब्रह्म माना जाता है। सत्य, चैतन्यस्वरूप परब्रह्म का प्रतीक है। साक्षात शिव स्व... Read more...
Logo
नई दिल्ली (एजेंसी) >>>>>>> फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को महाशिवरात्रि का त्योहार मनाया जाता है. माना जाता है कि सृष्टि का प्रारंभ इसी दिन से हुआ था. यह भी मान्यता है कि इसी दिन भगवान शिव का विवाह माता पार्वती से हुआ था. साल में होने वाली 12 शिवरात्रियों में से महाशिवरात्रि को सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है. इसी दिन से जुड़ी एक और मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन ही भगवान शिव ने कालकूट नामक विष को अपने कंठ में रख लिया था, जो समुद्र मंथन के दौरान बाहर आया था. इस विशेष दिन पर सही समय और सही विध... Read more...
Logo
नई दिल्ली (लाइव इंडिया न्यूज नेटवर्क) >>>>>>>> देशभर में मंगलवार को बड़ी धूमधाम से महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जा रहा है। भगवान शिव के मंदिरों में सुबह से ही भक्तों की भीड़ नजर आ रही है। इस बार महाशिवरात्रि मंगलवार और बुधवार को दो दिन मनाई जा रही है। दोनों ही दिन भक्त भोलेनाथ का जलाभिषेक कर सकते हैं। महाशिवरात्रि की रात हिंदू धर्मग्रंथों में बेहद महत्वपूर्ण है। महाशिवरात्रि हिन्दुओं का एक प्रमुख त्यौहार है। मान्यता है कि आज ही के दिन भगवान शिव का देवी पार्वती के साथ विवाह हुआ था। महाशिवरात... Read more...
Logo
महादेव को रिझाना सबसे आसान काम है। कहते हैं कि पूजा के समय अगर कुछ खास नियमों को देख पूजा कर ली जाए तो महादेव तुरंत प्रसन्न होकर जातक को आशीर्वाद देने लगते हैं। पूजा के समय चंदन, भस्म, त्रिपुण्ड और रुद्राक्ष माला ये शिव पूजन के लिए विशेष सामग्री हैं जो पूजा के समय शरीर पर होनी चाहिए।  शिवलिंग अथवा अपने ललाट पर तिलक-त्रिपुण्डविधि विधान से लगाना चाहिए। सर्वप्रथम अंगूठे से ऊधर्वपुण्ड (नीचे से ऊपर की ओर) लगाने के बाद मध्यमा और अनामिका उंगली से बांईं ओर से प्रारम्भ कर दाहिनी ओर भस्म लगानी चाहिए। इसक... Read more...
Logo
महाशिवरात्रि एक हिन्दू त्योहार है जो हर साल भगवान शिव के भक्तों द्वारा मनाया जाता है। महाशिव रात्रि अपने आप में विशेषकर पुण्यदायक साधना पर्व है क्योंकि शिव वही है, जिन्होंने रावण को अटूट बल दिया। मार्कण्डेय को अपना कर यमराज से मुक्ति दिलवाई। परशुराम को बलशाली बनाया और समस्त दीन-दुखियों, दरिद्र प्राणियों, संकटग्रस्त जीवों, लावारिसों आदि समस्त प्राणियों के जीवन की रक्षा कर उन्‍हें समृद्ध बनाते हैं। शिव का अर्थ मंगलमय और मंगलदाता है। शिव के इस मंगलमय रूप की उपासना समस्त जातकों, सिद्धों और सा... Read more...
Logo
महादेव ने विद्येश्वर संहिता में स्वयं कहा है कि जो व्यकक्ति महाशिवरात्रि को निराहार और जितेन्द्रिय होकर उपवास रखता है और उसी रात को चारों प्रहर की पूजा करता है उसकी कोई भी मनोच्छा कभी अधूरी नहीं रहती। देवों के देव महादेव की सेवा कर उनसे मनचाहा वर मांगने का दिन है महाशिवरात्रि। इस साल यह पर्व 13 फरवरी को मनाया जाएगा। धार्मिक पुराणों में इस रात्रि को खासा महत्व दिया गया है। ग्रंथों के अनुसार इस रात यदि चारों प्रहर की पूजा की जाए तो जीवन के सभी कष्ट दूर होकर मनवांछित फलों की प्राप्ति होती है। इन चा... Read more...









   ECONOMY   
Pic
नई दिल्ली (एजेंसी) >>>>>>>>> स्टेट बैंक (एसबीआ... Read more
   SPORTS   
Pic
नई दिल्ली (लाइव इंडिया न्यूज नेटवर्क) >>>>>>>>... Read more
   LIFE STYLE   
Pic
आमतौर पर बिहार, आसाम के लोगों को चावल खाते देखा जा... Read more